Saturday, January 23, 2010

कदम-दर-कदम हम बढे जब भी आगे...
चिटकते गए बीती यादों के धागे,
समय ने न जाने कहा ला धकेला...
बहुत कुछ नहीं था जो हम सो के जागे.

पुरानी सड़क पर बहुत दूर भागे...
निकलते गए और लोगो से आगे...
मगर गौर से जब निगाहें गड़ाई..
नए से थे चेहरे, नए थे लबादे.

गुंधे एक दूजे में ख्वाहिश के धागे...
है कुछ ख्वाब जिंदा तो कुछ थे अभागे...
हमें बस खरे लोगों की ही है ख्वाहिश ..
हमें पाक लोगो की दौलत खुदा दे.

11 comments:

  1. bahut behtreen rachna hrdy ki antrvyatha ko kahti hui
    saadar
    praveen pathik
    9971969084

    ReplyDelete
  2. sunder bhavnae darshatee kavita !

    ReplyDelete
  3. सपनों में उड़ने की ये कोशि‍श सफल हो सकती है।

    ReplyDelete
  4. बेहद उम्दा अभिव्यक्ति लगी, बधाई ।

    ReplyDelete
  5. वाह जी बहुत अच्छा लिखा है आपने. आभार.

    ReplyDelete
  6. Mujhe lagata hai aapki aaz ki nai poem ki heading "Khare Log" hona chahiye. Aaz kal to cheating ka jamana, saaf suthare log badi muskil se milate hai, cheater hi jyada pasand kiye jate hai, fir bhi aapka prayas sarahniya hai...

    ReplyDelete
  7. Mujhe lagata hai aapki aaz ki nai poem ki heading "Khare Log" hona chahiye. Aaz kal to cheating ka jamana, saaf suthare log badi muskil se milate hai, cheater hi jyada pasand kiye jate hai, fir bhi aapka prayas sarahniya hai...

    ReplyDelete
  8. गुंधे एक दूजे में ख्वाहिश के धागे...
    है कुछ ख्वाब जिंदा तो कुछ थे अभागे...

    ख्वाब जो पूरे हो जाते हैं जिंदा रहता हैं ....... नही तो आभागे होते हैं ....... बहुत अच्छी रचना ....

    ReplyDelete
  9. पुरानी सड़क पर बहुत दूर भागे...
    निकलते गए और लोगो से आगे...
    मगर गौर से जब निगाहें गड़ाई..
    नए से थे चेहरे, नए थे लबादे.

    खूबसूरत पंक्तियाँ हैं. आज की दुनिया का सच है.

    ReplyDelete
  10. गणतंत्र दिवस की आपको बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. shabd dar shabd apse milne ki iksha badh jati hai,kya isi tarah dosti ki manzil tay ki jati hai.

    no doubt aap main bahut kuch hai aur itna kuch hai ke aap yadi sahitya main technically strong hote jayenge to vo din door nahin jab ap ki rachnayen logon nason main lahoo bankar daudengi,kyunki apki rachnayon main ek FEEL hai.

    UMEED KARTA HOON KE AAP SE EK DIN MULAQAT HO,
    SHAYAD JINDAGI KO NAYE NAZARIYE SE DEKHNE KI BAAT HO.

    ReplyDelete