Wednesday, May 5, 2010

तारो की रौशनी में

कभी कभी तनाव से ऊब कर
नींद जब पल्लू छुड़ा कर भागती है
तो मै रोकती नहीं उसका रास्ता
ये सोच कर की शायद
कहीं कोई मखमली सपनो की सेज पर
करता होगा उसका इंतज़ार
और चुपचाप चुनने लगती हूँ
आसमान के सितारे
क्योंकि दिन के उजाले
कई बार आँखों को चौंधिया देते हैं
और साफ़ दिखती हुई चीज़ें भी
रह जाती हैं अनसुनी, अनदेखी
दिन की भीड़ और भीड़ का शोर
अक्सर दबा देता है
कुछ आवाज़ों को
जो कानो तक आकर भी
गुज़र जाती हैं बिना दस्तक दिए
फिर इन नन्हे तारों की
टिमटिमाती रौशनी में
खोजती हूँ उन आवाज़ों को
ढूँढती हूँ उनके जवाब
और तब वो रौशनी और ख़ामोशी
देती है जवाब
हर अनसुनी बात का
और मै हैरान रह जाती हूँ ये देखकर
तारो की रौशनी में
सबकुछ दिखता है कितना साफ़

9 comments:

  1. वाह! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  2. "क्योंकि दिन के उजाले
    कई बार आँखों को चौंधिया देते हैं
    और साफ़ दिखती हुई चीज़ें भी
    रह जाती हैं अनसुनी, अनदेखी
    दिन की भीड़ और भीड़ का शोर
    अक्सर दबा देता है
    कुछ आवाज़ों को
    जो कानो तक आकर भी
    गुज़र जाती हैं बिना दस्तक दिए"

    इन्ही चमको और शोरो मे भी अपने तारे खोज लेना ही ज़िन्दगी है... आपका तो आसमान भी साफ़ है.. बाम्बे मे तो वही नही दिखता...

    बढिया कविता..

    ReplyDelete
  3. तारो की रौशनी में
    सबकुछ दिखता है कितना साफ़
    बेहतरींर रचना
    सुन्दर और भावपूर्ण

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन!

    ReplyDelete
  5. Bahut sunder abhivykti...........
    Ranjana jee ye rachana dil ko choo gayee...........
    Aabhar.....

    ReplyDelete
  6. दिन के उजालों में आँखें चुंधियाती है ...तारों के उजास में वही साफ़ नजर आना ...
    अंतर्दृष्टि का कमाल है ...
    अच्छी कविता ...!!

    ReplyDelete
  7. खोजती हूँ उन आवाज़ों को
    ढूँढती हूँ उनके जवाब
    और तब वो रौशनी और ख़ामोशी
    देती है जवाब
    हर अनसुनी बात का...... main bhi janna chahungi wo raz

    ReplyDelete
  8. नींद का पल्लू छुड़ाकर भागना कमाल का थोट है..

    ReplyDelete
  9. deep to jalta rahega...
    lok mn kuch bhi kahega...
    prem path pr paavn rkh kar
    kheechna to maha apmaan hai..
    sheesh de utkarsh hona...
    to maha abhimaan hai...
    heer ranjha ki tarh koi to kuch bhi kahega..
    deep to jalta rahega...
    deep to jalta rahega...

    aap ki kavitayen bahut sanvedan sheel hai..badhai.

    ReplyDelete