Saturday, May 1, 2010

अश्कों से धुले लम्हों को पोंछती रहती हूँ
कैसे जियूं ये रिश्ते बस सोचती रहती हूँ
फुरसत में कही कोई गम याद न आ जाये
मसरूफियत में खुशियों को खोजती रहती हूँ

9 comments:

  1. गज़ब...है...
    बेहतर...अश्कों से धुले लम्हे....

    ReplyDelete
  2. फुर्सत में याद ना आये ...मसरूफियत भी कहाँ रोक पाती है यादों को ...!!

    ReplyDelete
  3. विवशता सम्बन्धों की . अच्छा चित्रण ।

    ReplyDelete