Monday, December 28, 2009

सांवली परी

देखा मैंने एक सांवली परी को
बिखरे हुए बाल और काजल लगी आँखे
सूती फ्राक और घिसा हुआ स्वेटर
घुटनों के बीच हाथों को सिकोड़े हुए
खुद को ठिठुरन से बचाने की कोशिश करती हुई
एक ठेले पर बैठी चली जा रही थी

मै गर्म सूट और नर्म टोपी लगाये हुए
ऑफिस जाने की जल्दी में
पति की स्कूटर की पिछली सीट पर बैठी
रेलवे क्रोसिंग के खुलने का इन्जार कर रही थी
और साथ ही साथ उस ठण्ड को...
महसूस करने की कोशिश करती रही
जिसे वो अभी झेल रही थी

दूसरे दिन फिर दिखी मुझे एक और नन्ही परी
जो पहली परी से भी छोटी थी
लगभग तीन साल की वो परी
अपने भाई का हाथ पकडे
भागी चली जा रही थी
अपने नन्हे नंगे पैरों पर चुभने वाले...
किसी भी कांटे की परवाह किये बिना

मै सोच ही रही थी की कुछ करू इसके लिए
तभी साथ खड़ी मेरी मित्र बोली
देख रही हो उस बच्ची को
तीन दिन पहले मैंने इसे एक जोड़ा जूते दिए थे
ताकि उन्हें पहन कर ये ठण्ड से बच सके
लेकिन उसे जूते न पहना देख जब मैंने पूछा
की क्यों अभी तक तुमने वो जूते नहीं पहने
वो बोली माँ कहती है वो जूते पहन लूगी
तो और नहीं मिलेगे

10 comments:

  1. सबकी अपनी एक हकीकत
    सबका अपना अफसाना था
    चढ़ती ढलती दि‍ल की धड़कन

    मुझको ही सब समझाना था...

    ReplyDelete
  2. क्या सोच कर ज़िन्दगी उदास है ..कुछ मिल के भी कुछ पाने की आस है ...यही ज़िन्दगी की हकीकत है ..जिस से बचना मुश्किल है ..मैंने भी इस तरह की हकीकत कल अपने दिए गर्म कपड़ों पर सुनी ...

    ReplyDelete
  3. परी तो परी है सांवली ही सही

    ReplyDelete
  4. न हो जमीं तो पावों से सर ढक लेंगे ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिए

    ReplyDelete
  5. परी की कविता के साथ साथ समाज के एक वर्ग के विचारों से भी अवगत कराया आपने..सुंदर भावों के साथ आगे बढ़ती हुई कविता एक बड़े ही अलग अंदाज के साथ ख़तम हुई..बढ़िया लगा..धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. अद्भुत अंदाज!!


    यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

    हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

    मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

    निवेदन है कि नए लोगों को जोड़ें एवं पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

    एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

    आपका साधुवाद!!

    शुभकामनाएँ!

    समीर लाल
    उड़न तश्तरी

    ReplyDelete
  7. सादर वन्दे
    कहानी परी की थी लेकिन दर्पण हमारे समाज का दिखा!
    रत्नेश त्रिपाठी

    ReplyDelete
  8. यह सब पढ़ सुन कर समझ नहीं आता कि इनकी मदद किस तरह की जाए ...लोगो द्वारा दिए अपने कम्बल बेचकर दूसरे ही दिन ठण्ड में ठिठुरते भिखारियों को देखना आम बात है ...!!

    ReplyDelete
  9. समाज को आईना दिखला दिया आओने इस पारी के माध्यम से ......... अच्छी रचना .......
    आपको नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ...........

    ReplyDelete