Wednesday, August 3, 2011














बरसती, टपकती, सरकती, फिसलती
लटों में उलझती, लबों पर थिरकती
ये बूंदे मुझे खींच लाती हैं बाहर
मेरे घर के आंगन में जब भी बरसती

9 comments:

  1. Wow...

    How nice ...

    टिप्पणी के लेन-देन के पीछे छिपी हक़ीक़त को बेनक़ाब होता हुआ देखने के लिए हमने एक कहानी लिखी है
    आप क्या जानते हैं हिंदी ब्लॉगिंग की मेंढक शैली के बारे में ? Frogs online

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदरता से एहसासों को शब्द दिया है आपने...लाजवाब।

    ReplyDelete
  3. ek aah si nikli.. apne aangan ki or dekha to baarish abhi bhi ho rahi thi...

    ReplyDelete
  4. beautiful post. THis poem touched my heart,
    excellent write!

    ReplyDelete