Friday, October 22, 2010



दर्द की दीवार पर कैसे लिखे लम्हा कोई
भीड़ में गुमसुम खड़ा है, है बहुत तन्हा कोई

7 comments:

  1. dard ki diwar ka kitna bada aakar hai ..
    dhondata huun ed sira duja sira milta nahi..
    ye diwaren ek si hain rung thode hai alag ,
    chot khane ka hai inki sisila thamta nahi...

    ReplyDelete
  2. तुझको सोचा तो पता हो गया रुसवाई को
    मैंने महफूज़ समझ रखा था तन्हाई को
    साथ मौजों के सभी हो जहाँ बहने वाले ,
    कौन समझेगा समन्दर तेरी गहराई को.

    ReplyDelete
  3. bhir me tanhai, jayda pareshan karti hai.......:)

    ReplyDelete
  4. मन के कोने मे दबा दर्द कैसे बाहर आता है ।

    ReplyDelete