Tuesday, June 8, 2010

नर्म एहसास तुम्हारी हथेली का



नर्म एहसास तुम्हारी हथेली का
हिस्सा हो जैसे जादू भरी पहेली का
आज है मेरी नन्ही सी बेटी का
कल यही होगा मेरी सबसे प्यारी सहेली का

5 comments:

  1. bahut hi sundar photo aur abhivyakti.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब... चित्र और रचना ...दोनों...बेटी सहेली बन जाए तो माँ को और क्या चाहिए?
    नीरज

    ReplyDelete
  4. bahut sunder mamatv bharee rachana har ma kee awaz hai ye to..........

    ReplyDelete
  5. maa aur beti saheli ban jayen to ek behad khushnuma mahaul banta hai ...badhiya rachna

    ReplyDelete