Thursday, February 23, 2012

रात


कजरारी सी काली रातें
प्यार भरी कुछ मीठी बातें
कुछ तुम कहना, कुछ मै बोलू
रात सुनहरी हो जाएगी

होठों की नरमी को छूकर
जुगनू सी आँखों में खोकर
बाँहों में मुझको भर लेना
रात फिसल कर खो जाएगी

हाथों में जब हाथ थामना
जीवनभर का साथ थामना
रात भले कितनी काली हो
नर्म चांदनी बो जाएगी

16 comments:

  1. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. हाथों में जब हाथ थामना
    जीवनभर का साथ थामना
    रात भले कितनी काली हो
    नर्म चांदनी बो जाएगी ……………सकारात्मकता को इंगित करती शानदार रचना दिल छू गयी।

    ReplyDelete
  3. हाथों में जब हाथ थामना
    जीवनभर का साथ थामना
    रात भले कितनी काली हो
    नर्म चांदनी बो जाएगी

    ....वाह! सकारात्मक सोच लिए बहुत भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रेममयी भावाव्यक्ति ,बधाई

    ReplyDelete
  5. Wah! Behtareen....Bahut sundar....

    http://www.poeticprakash.com/

    ReplyDelete
  6. वाह!!वाह!!वाह!!!

    बहुत सुन्दर...
    क्या प्रवाह है ...
    बह गए बिलकुल..

    ReplyDelete
  7. Hi, I am the owner of a Photography blog photographymc.blogspot.com

    I'd like to exchange links with you. I added your blog to my Favorites!

    Pay me a visit and let me know with a comment on the blog what you think about it.

    P.s.

    There's something you may be interested in, on my blog started a free online photography course, that includes over 200 lessons at this link: Free online Digital Photography Course

    ReplyDelete
  8. Bahut sundar aur gehri abhivyakti.

    हाथों में जब हाथ थामना
    जीवनभर का साथ थामना
    रात भले कितनी काली हो
    नर्म चांदनी बो जाएगी

    Ishwar kare aapke shabdo mai mohabbat hamesha aisi hi khoobsurati leti rahe.

    -Shaifali

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और सार्थक सृजन, बधाई.

    आपका मेरे ब्लॉग meri kavitayen की नवीनतम प्रविष्टि पर स्वागत है.

    ReplyDelete
  10. सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  11. सुंदर भावाव्यक्ति, बधाई...

    ReplyDelete
  12. होठों की नरमी को छूकर
    जुगनू सी आँखों में खोकर
    बाँहों में मुझको भर लेना
    रात फिसल कर खो जाएगी

    ऐसी रात शायद कभी ख़त्म न हो ..
    बहुत सुन्दर रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  13. Ati sunder, Lage raho munna bhai :)

    ReplyDelete